Search

अपने डेटा को सावधानी पूर्वक कैसे मिटाए !!

डेटा प्राइवेसी और गोपनीयता बनाए रखना बहुत महत्वपूर्ण है, हालांकि आप अपने डेटा को लीक होने से बचाने के लिए कई सुरक्षा उपायों को शामिल कर सकते हैं, कृपया आप डेटा मिटाते समय उचित सावधानी अपनाये !




कई उपयोगकर्ता मानते हैं कि Shift+ Del कमांड का उपयोग करने या रीसायकल बिन या ट्रैश को खाली करने से डेटा हमेशा के लिए डिलीट हो जाता है।










साधारण डिलीशन केवल विज़िबल लोकेशन से डेटा को हटाता है और इसे इनैक्सेसिबल बनाता है। डिलीट किये गए डेटा को डेटा रिकवरी सॉफ़्टवेयर के साथ आसानी से रिकवर किया जा सकता है।


यह पोस्ट आपको यह समझने में मदद करेगी कि किसी को डेटा डिलीशन और डेटा फॉर्मेटिंग पर आपको पूर्णतः भरोसा क्यो नही कारण चहिये !!


डेटा डिलीशन और डेटा फॉर्मेटिंग क्या है?

सिस्टम या हार्ड ड्राइव से डेटा को रिमूव करने के दो तरीके हैं डिलीशन और फॉर्मेटिंग - दोनों विधियों का प्राथमिक कार्य डिसायरड डेटा को डिलीट करना और अन्य फ़ाइलों को सेव करने के लिए स्थान बनाना है।





जब आप किसी फ़ाइल को डिलीट करते हैं, तो केवल फ़ाइल का पता हटा दिया जाता है, पूरी फ़ाइल नहीं और फ़ाइल आपके लिए हिडन और इनैक्सेसिबल हो जाती है। भले ही आप रीसायकल बिन को खाली कर दें या Shift + Del कमांड का उपयोग करके फ़ाइल को डिलीट कर दें, फ़ाइल तब भी स्टोरेज मीडिया पर तब तक बनी रहती है जब तक कि वह ओवरराइट न हो जाए। ऐसी फ़ाइलों को किसी भी DIY (DO IT YOUR SELF) डेटा रिकवरी सॉफ़्टवेयर का उपयोग करके आसानी से रिकवर किया जा सकता है।





डेटा मिटाने का तरीका :-


डेटा इरेजर:-

डेटा ERASER डेटा को हमेशा के लिए डिलीट करने के लिये उपयोग किया जात है । जब आप डेटा इरेजर की प्रक्रिया करते हैं, तो यह डेटा को नष्ट करने के लिए बाइनरी पैटर्न (0 और 1) के निर्देशो द्वारा ओवरराइट कर देता है, जिससे डेटा रिकवरी सॉफ़्टवेयर का उपयोग करके भी डेटा को रिकवर करना असंभव हो जाता है।


उदाहरण के लिए - आप डेटा इरेजर सॉफ़्टवेयर का उपयोग तब कर सकते हैं, जब आपका डेटा अत्यधिक संवेदनशील हो और आप अपने डिवाइस को किसी सर्विस प्रोवाइडर को नहीं भेजना चाहते।

इसी तरह, यदि डिवाइस काम करने की स्थिति में नहीं है, तो आपको फिजिकल डिस्ट्रक्शन या डिगॉसिंग का उपयोग करके डेटा को मिटाना होगा।





डाटा इरेसर के फायदे व नुकसान


फायदे :-

  • इसके माध्यम से डेटा सदैव के लिए नष्ट हो जाता है !

  • इसे दोबारा किसी भी रिकवरी सॉफ्टवेयर या अन्य तकनीकों से रिकवर कर पाना असंभव हो जाता है !

  • यदि आप अपने कंप्यूटर को बेचने या दान करने की योजना बना रहे हैं, तो इसके माध्यम से डाटा को डिलीट करना एक अच्छा विकल्प सिद्ध हो सकता है !!

नुकसान :-

  • यदि आपने भूलवश भी अपने डाटा को डिलिट करने के लिए डाटा इरेज़र का उपयोग करते हैं तो किसी भी प्रकार से उस डाटा को रिकवर नहीं किया जा सकता और सम्पूर्णतया आप डाटा को खो देते हैं!!



हार्ड ड्राइव का भौतिक विनाश या फिजिकल डिस्ट्रक्शन द्वारा डाटा डिलीशन


एक डेटा स्टोरेज डिवाइस को फिजिकल रूप से नष्ट किया जा सकता है, ताकि इसे फिर से बनाना असंभव हो जाए। स्टोरेज डिवाइसेज को नष्ट करने की कुछ विधियाँ - क्रशिंग, ग्राइंडिंग, डिसइंटिग्रेशन, इन्सीनरेशन, श्रेडिंग आदि हैं।




फिजिकल डिस्ट्रक्शन के फायदे

  • यह डेटा सदैव के लिए नष्ट का सबसे प्रभावी तरीका है!

फिजिकल डिस्ट्रक्शन के नुकसान

  • यह डिवाइस को अनुपयोगी (NOTWORKING) बना देता है।



निष्कर्ष

इस ब्लॉग के द्वारा डेटा डिलीशन और डेटा फॉर्मेटिंग के बीच के अंतरों को बताया है, डेटा को जब भी स्थायी रूप से डिलीट करने कि जरूरत हो तब आपडाटा इरेज़र या फिजिकल डिस्ट्रक्शन का उपयोग करे, जिससे आपके डाटा के रिसाव की संभावना लगभग समाप्त हो जाती हैं!!




About The Author

ANJALI MISHRA

अंजली मिश्रा को डेटा रिकवरी में गहरी रुचि है, वह डेटा रिकवरी और खोए हुए डेटा को रिकवर करने के तरीकों पर जानकारीपूर्ण लेख शेयर करती हैं।




0 views0 comments